राष्ट्रीय समसामयिकी 4 (12-January-2021)
नेशनल सुपरकंप्यूटिंग मिशन
(National Supercomputing Mission)

Posted on January 12th, 2022 | Create PDF File

hlhiuj

राष्ट्रीय सुपर-कंप्यूटर मिशन (National Super-Computer Mission – NSM) के तहत, जुलाई 2021 से IIT-हैदराबाद, NABI- मोहाली, CDAC-बेंगलुरु और IIT कानपुर में चार नए सुपर कंप्यूटर स्थापित किए गए हैं।

 

NSM, लगभग 75 संस्थानों और ‘नेशन नॉलेज नेटवर्क’ (NKN) के माध्यम से काम कर रहे हजारों से अधिक सक्रिय शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों को हाई परफॉरमेंस कंप्यूटिंग (HPC) सुविधाओं तक पहुंच प्रदान करता है।

 

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन  :

 

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (National Supercomputing Mission– NSM) इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (MeitY) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) द्वारा संयुक्त रूप से संचालित किया जा रहा है।

 

इसे उन्नत कम्प्यूटिंग विकास केंद्र (Centre for Development of Advanced Computing: C-DAC), पुणे और भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc), बेंगलुरु द्वारा कार्यान्वित किया गया है।

 

मिशन का लक्ष्य :

 

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन का उद्देश्य 70 से अधिक उच्च-प्रदर्शन कंप्यूटिंग सुविधाओं से लैस एक विशाल सुपरकंप्यूटिंग ग्रिड की स्थापना करना तथा देश के राष्ट्रीय शैक्षणिक और R&D संस्थानों को सशक्त बनाना है।

 

इन सुपर कंप्यूटरों को राष्ट्रीय ज्ञान नेटवर्क (National Knowledge – NKN) पर राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग ग्रिड से जोड़ा जाएगा।

 

इस मिशन में इन अनुप्रयोगों के विकास संबंधी चुनौतियों का सामना करने के लिए उच्च पेशेवर उच्च प्रदर्शन कम्प्यूटिंग (High Performance Computing- HPC) की जानकारी रखने वाले कार्यबल का विकास सम्मिलित किया गया है।

 

‘राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन’  की उपलब्धियां :

 

स्‍वदेशी तौर पर असेंबल किए गए पहले सुपर कंप्‍यूटर ‘परम शिवाय’ को आईआईटी (बीएचयू) में स्थापित किया गया है।

 

उसके बाद ‘परम शक्ति’ को आईआईटी खड़गपुर में और ‘परम ब्रह्म’ को आईआईएसईआर पुणे में स्थापित किया गया था। ये सुपर कंप्‍यूटर, वेदर एंड क्लाइमेट, कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनामिक्स, बायोइनफॉरमैटिक्स और मटेरियल साइंस जैसे डोमेन से एप्लिकेशन से लैस हैं।