व्यक्ति विशेष समसामियिकी 1 (31-July-2020)
रेन सोनम शेरिंग लेपचा
(Ren Sonam Tshering Lepcha)

Posted on July 31st, 2020 | Create PDF File

hlhiuj

* पद्मश्री से सम्मानित भारतीय संगीतकार रेन सोनम शेरिंग लेपचा (Ren Sonam Tshering Lepcha) का 92 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है।

 

* इस अवसर पर शोक व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘पद्मश्री रेन सोनम शेरिंग लेपचा बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे और उन्होंने महान लेप्चा संस्कृति को लोकप्रिय बनाने के लिये सतत् रूप से उत्कृष्ट प्रयास किये।’

 

* उनकी अनगिनत उत्‍कृष्‍ट कृतियों का सम्मान पीढ़ी-दर-पीढ़ी किया जाता रहा है।

 

* 3 जनवरी, 1928 को पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में जन्मे सोनम शेरिंग लेपचा ने काफी कम उम्र में संगीत और नृत्य सीख लिया था।

 

* वे 1960 में ऑल इंडिया रेडियो (AIR) पर लेप्चा गाने वाले पहले व्यक्ति थे और वे बीते चार दशकों में एक सफल सार्वजनिक कलाकार के रूप उभरे थे।

 

* उन्होंने लेप्चा गीतों की रचना और संकलन किया तथा लेप्चा संगीत वाद्ययंत्र पर शोध भी किया, और लेप्चा लोकगीतों पर आधारित नृत्य-नाटक प्रस्तुत किये, जो कि सिक्किम में खासे लोकप्रिय हैं।

 

* उन्होंने वर्ष 2011 में लेप्चा लोकगीतों पर आधारित किताब ‘वोम जाट लिंग छायो’ (Vom Jat Ling Chhyo) भी प्रकाशित की है।

 

* लेप्चा संगीत में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें वर्ष 1995 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

 

* वर्ष 2007 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया।