नियमित अभ्यास क्विज़ (Daily Pre Quiz) - 206

Posted on September 9th, 2019 | Create PDF File

hlhiuj

प्रश्न-1 : एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये -

  1. इस कार्यक्रम के अंतर्गत विकसित मिसाइलें हैं- अग्नि, ब्रह्मोस और पृथ्वी।
  2. इस कार्यक्रम की निगरानी प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाले नाभिकीय कमान प्राधिकरण द्वारा प्रत्यक्ष रूप से की जाती है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

(a) केवल I

(b) केवल II

(c) I और II दोनों 

(d) इनमें से कोई नहीं

 

उत्तर - ()

 

उत्तर-1 : (d)

 

व्याख्या : 

  • एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (Integrated Guided Missile Development Programme):
  • IGMDP की शुरुआत वर्ष 1983 में की गई थी और इसका नेतृत्व डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने किया था। इस कार्यक्रम के अंतर्गत विकसित 5 मिसाइलें हैं-

 

  1. नाग: तीसरी पीढ़ी की एंटी-टैंक मिसाइल।
  2. अग्नि: अलग-अलग रेंज की बैलिस्टिक मिसाइलें, जैसे अग्नि 1, 2, 3, 4, 5
  3. III.आकाश: मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल।
  4. IV.त्रिशूल: कम दूरी तथा निम्न स्तर की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल।
  5. पृथ्वी: कम दूरी की सतह-से-सतह पर मार करने वाली मिसाइल। अत: कथन 1 सही नहीं है।

 

  • एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (IGMDP) रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आता है, नाभिकीय कमान प्राधिकरण के अंतर्गत नहीं। अत: कथन 2 सही नहीं है।
  • पृथ्वी मिसाइल, भारत के प्रतिष्ठित एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (IGMDP) के अंतर्गत DRDO द्वारा विकसित प्रथम मिसाइल है।
  • NCA भारत के परमाणु हथियार कार्यक्रम संबंधित आदेश, नियंत्रण और परिचालन निर्णयों के लिये ज़िम्मेदार नोडल प्राधिकरण है। इसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रश्न-2 : सतत् वैकल्पिक वहन योग्य परिवहन (सतत) योजना के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये -

  1. इसका उद्देश्य फसल अवशेषों के आधार पर बायो-डीज़ल उत्पादन संयंत्र स्थापित करना है। 
  2. यह सतत् विकास लक्ष्य-7 को हासिल करने के प्रयासों को बढ़ावा देगी।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

(a) केवल I

(b) केवल II

(c) I और II दोनों 

(d) इनमें से कोई नहीं

 

उत्तर - ()

 

उत्तर-2 : (b)

 

व्याख्या : 

  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों (ओ.एम.सी., यानी आई.ओ.सी., बी.पी.सी.एल. और एच.पी.सी.एल.) के साथ सतत् वैकल्पिक वहन योग्य परिवहन (सतत) योजना की शुरुआत की है।
  • भारत में प्रत्येक वर्ष उत्पन्न होने वाले 62 मिलियन मीट्रिक टन से अधिक कचरे का उपयोग, आयात पर निर्भरता में कमी लाने, देश में रोज़गार सृजन को पूरकता प्रदान करने और वाहनों के उत्सर्जन एवं कृषि/जैविक कचरे के जलने से होने वाले प्रदूषण को कम करने के चार सूत्री एजेंडे के साथ ‘सतत’ की शुरुआत की गई।
  • यह योजना संपीडित जैव-गैस (सी.बी.जी.) उत्पादन संयंत्रों की स्थापना के लिये और स्वचालित ईंधन में उपयोग के लिये बाज़ार में सी.बी.जी. की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिये और इच्छुक उद्यमियों से एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ई.ओ.आई.) आमंत्रित करती है। अत: कथन 1 सही नहीं है।
  • सतत् विकास लक्ष्य (एस.डी.जी.)-7 का उद्देश्य सभी के लिये किफायती, विश्वसनीय, संवहनीय और आधुनिक ऊर्जा तक पहुँच सुनिश्चित करना है। इस प्रकार ‘सतत’ योजना एस.डी.जी.-7 की प्राप्ति में सहायक है। अत: कथन 2 सही है।
  • इसमें अधिक किफायती परिवहन ईंधन, कृषि अवशेषों, मवेशियों के गोबर और नगरपालिका के ठोस अपशिष्ट के बेहतर उपयोग के साथ-साथ किसानों को अतिरिक्त राजस्व स्रोत प्रदान करने की क्षमता है।
  • भारत में, विभिन्न स्रोतों से संपीडित जैव-गैस के उत्पादन की अनुमानित क्षमता लगभग 62 मिलियन टन प्रति वर्ष है।
  • पूरे भारत में चरणबद्ध तरीके से 5,000 संपीडित बायो-गैस संयंत्रों के निर्माण की योजना तैयार की गई है जिसके अंतर्गत वर्ष 2020 तक 250 संयंत्र, वर्ष 2022 तक 1,000 संयंत्र और वर्ष 2025 तक 5,000 संयंत्र स्थापित किये जाएंगे। इन संयंत्रों में प्रतिवर्ष 15 मिलियन टन सी.बी.जी. उत्पादन की संभावना है, जो देश में 44 मिलियन टन प्रति वर्ष की वर्तमान सी.एन.जी. खपत का लगभग 40 प्रतिशत है।
  • जैव ईंधन पर राष्ट्रीय नीति, 2018, सीबीजी सहित अन्य उन्नत जैव-ईंधन के उपयोग को बढ़ावा देने पर बल देती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रश्न-3 : हाल ही में हनोई शिखर सम्मेलन समाचारों में था। यह निम्नलिखित समूहों/राष्ट्रों में से किससे संबंधित है ?

 

(a) दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) से

(b) क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (आर.सी.ई.पी.) से

(c) यू.एस.-उत्तर कोरिया से

(d) एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) से

 

उत्तर - ()

 

उत्तर-3 : (c)

 

व्याख्या : 

  • हनोई शिखर सम्मेलन दो दिवसीय शिखर सम्मेलन था जो 27-28 फरवरी, 2019 को वियतनाम के हनोई में अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता के बीच संपन्न हुआ। जून 2018 में सिंगापुर में आयोजित पहली बैठक के बाद उत्तर कोरिया और अमेरिका के नेताओं के बीच यह दूसरी बैठक थी। अत: विकल्प (c) सही है।
  • सिंगापुर में आयोजित पहले शिखर सम्मेलन में, ट्रम्प और किम ने कोरियाई प्रायद्वीप में वि-परमाणुकरण और स्थायी शांति की दिशा में काम करने का संकल्प लिया था, लेकिन इस दिशा में बहुत कम प्रगति हुई है।
  • दूसरे शिखर सम्मेलन में, दोनों पक्षों ने समयपूर्व ही संवाद समाप्त कर लिया और एक संयुक्त विज्ञप्ति तक जारी नहीं की।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रश्न-4 : निम्नलिखित में से कौन-सी संधि युद्धबंदियों (पी.ओ.डब्ल्यू.) के साथ व्यवहार से संबंधित है और इस सिद्धांत की स्थापना करती है कि युद्धबंदियों को सक्रिय शत्रुता की समाप्ति पर अविलंब रिहा और प्रत्यर्पित किया जाएगा ?

 

(a) बार्सिलोना संधि

(b) बेसेल संधि

(c) जिनेवा संधि 

(d) रोटरडैम संधि

 

उत्तर - ()

 

उत्तर-4 : (c)

 

व्याख्या : 

  • जिनेवा संधियाँ 1864 और 1949 के बीच स्विट्ज़रलैंड के जिनेवा में संपन्न संधियों की शृंखला हैं, जिसका उद्देश्य सैनिकों और नागरिकों पर युद्ध के प्रभाव में कमी करना है।
  • 1864 में युद्ध के समय में घायलों की मदद के लिये वार्ता को आगे बढ़ाने के लिये रेड क्रॉस के संस्थापक हेनरी डुनैंट के प्रयासों के परिणामस्वरूप संधियों की स्थापना की गई थी। जिनेवा संधियों की संख्या चार है:

 

♦ पहली जिनेवा संधि में धरातल पर युद्ध के दौरान घायल और बीमार सैनिकों की रक्षा की बात की गई है।

♦ दूसरी जिनेवा संधि में समुद्री युद्ध और उससे जुड़े प्रावधानों को शामिल किया गया है तथा इसमें समुद्र में घायल, बीमार और जलपोत पर तैनात सैन्य कर्मियों की रक्षा और उनके अधिकारों की बात की गई है।

♦ तीसरी जिनेवा संधि युद्ध बंदियों (पी.ओ.डब्ल्यू.) पर लागू होती है। युद्ध बंदी आमतौर पर एक पक्ष के सशस्त्र बलों के सदस्य होते है जो संघर्ष के दौरान विपक्षी द्वारा पकड़ लिये जाते हैं। शत्रुता में प्रत्यक्ष भाग लेने के आधार पर पी.ओ.डब्ल्यू. पर मुकदमा नहीं चलाया जा सकता है। इसमें युद्ध बंदियों के श्रम, वित्तीय संसाधनों का जिक्र और राहत एवं न्यायिक कार्रवाई के संबंध में व्यवस्था की गई है। इसमें युद्ध बंदियों को अविलंब रिहा करने का भी प्रावधान किया गया है। अत: विकल्प (c) सही है।

♦ चौथी जिनेवा संधि में युद्ध वाले क्षेत्र के साथ-साथ वहाँ के नागरिकों के संरक्षण का प्रावधान किया गया है।

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रश्न-5 : राष्ट्रीय युद्ध स्मारक जिसका हाल ही में उद्घाटन किया गया, के विन्यास में चार संकेंद्री वृत्त शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक सशस्त्र बलों के विभिन्न मूल्यों का प्रदर्शन करता है। निम्नलिखित में से कौन-सा एक चक्र इन चार चक्रों में शामिल नहीं है?

 

(a) अमर चक्र

(b) गौरव चक्र

(c) त्याग चक्र 

(d) रक्षक चक्र

         

उत्तर - ()

 

 

उत्तर-5 : (b)

 

व्याख्या : 

  • हाल ही में प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया। यह दिल्ली के इंडिया गेट परिसर में 40 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • मुख्य संरचना को चार चक्रों के रूप में बनाया गया है, जिनमें से प्रत्येक चक्र सशस्त्र बलों के विभिन्न मूल्यों को दर्शाता है। इसके सबसे आंतरिक चक्र में अखंड ज्योति और स्मृति स्तंभ विद्यमान हैं। इन चारों चक्रों को ‘अमर चक्र’, ‘वीरता चक्र’, ‘त्याग चक्र’ और ‘रक्षक चक्र’ नाम दिया गया है। अत: विकल्प (b) सही है।
  • स्मारक स्तंभ की ऊँचाई 15.5 मीटर है तथा परिसर में प्रवेश करते ही यह दूर से भी दिखाई देता है।